29
March

बिनु पानी सब सून और पानी के दुरपयोग पर विशेष

Written by 
Published in social media

bhola natha misra via whatsapp

+919415530301

बाराबंकी। धरती पर जल यानी पानी ईश्वर द्वारा सभी प्राणियों को जीवित रहने के लिए दिया गया अनमोल अमृत वरदान है शायद इसीलिए कहा गया है कि-" रहिमन पानी राखिएं बिनु पानी सब सून-----। एक पानी ही ऐसा अमृत पेय है जिसे पीकर प्राणी जिंदा रहा जा सकता है और पानी की कमी से जब शरीर ऐंठने लगता है तो ग्लूकोज पानी चढ़ाना पड़ता है। प्यास लगने पर अगर दस मिनट भी पानी नहीं मिलता है तो लगता है कि जान निकल जायेगी। पानी पीकर जान बचाने के लिए जंगली पशु पक्षियों को कभी कभी खतरे में डालकर आबादी के अंदर घुसना पड़ता है। प्रायः साँप भी आदमी की तरह पानी रुपी ओस को छाटकर जिन्दा रहता है और पानी की प्यास शेर और बकरी को कभी कभी एक घाट पर आने के लिए विवश कर देती है।पानी मनुष्य जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है और पानी के बिना शौच करना, नहाना, पूजा पाठ करना और भोजन करना कुछ भी संभव नहीं है। ईश्वर की पूजा अर्चना हो चाहे मृतक का अंतिम संस्कार हो हर जगह पानी की ही मुख्य भूमिका होती है।सभी जानते हैं कि पानी धरती के अंदर बह तरह जल धाराओं से आता है और जलवायु परिवर्तन का असर धरती के बाहर ही नहीं अंदर भी हुआ है। धरती का जलस्तर बरसात और जल संरक्षण पर निर्भर होता है।इधर औद्योगिक क्रांति एवं आधुनिकता के दौर में पानी की माँग और दुरपयोग कुछ मतलब से ज्यादा बढ़ गया है जिसके फलस्वरूप जलस्तर तेजी से नीचे जाने लगा है। जिन क्षेत्रों में तीन दशक पहले पानी पन्द्रह फुट पर था उन्हीं क्षेत्रों में जलस्तर बत्तिस से अड़तिस चालीस फुट पर पहुंच गया है और कहा जाता है कि अगला विश्वयुद्ध पानी के लिए होगा।देश और प्रदेश के तमाम जिले ऐसे हैं जो जहाँ पर पीने के पानी की समस्या है क्योंकि वहाँ पर जलस्तर बहुत नीचे भाग गया है।

जीवन से जुड़े ईश्वरीय अमृत समान जल को सुरक्षित संरक्षित करना हर एक मनुष्य का परम दायित्व बनता है और अगर इस दायित्व का निर्वहन नहीं किया गया तो निश्चित रूप से जीवन बच पाना असंभव हो जायेगा।पानी के दुरपयोग का मतलब अपने पैरों में खुद कुल्हाड़ी मारने और मौत को दावत देने जैसा है। तेजी से घटता जलस्तर प्राणिजगत के लिये खतरे की घंटी बजने जैसा है।

भोलानाथ मिश्र

वरिष्ठ पत्रकार/ समाजसेवी

रामसनेहीघाट, बाराबंकी यूपी।

Read 172 times Last modified on Thursday, 29 March 2018 07:55
Rate this item
(4 votes)
Super User

Aliquam erat volutpat. Proin euismod laoreet feugiat. In pharetra nulla ut ipsum sodales non tempus quam condimentum. Duis consequat sollicitudin sapien, sit amet ultricies est elementum ac. Aliquam erat volutpat. Phasellus in mollis augue.

Website: www.youjoomla.com

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.