24
March

लखनऊ । कतिपय समाचार माध्यमों में प्रदेश के कुछ मंत्रीगणों के सरकारी आवासों पर विद्युत बकाये के समाचार प्रसारित किये जा रहे हैं। जबकि मंत्रीगणों के सरकारी आवासों के विद्युत बिलों का भुगतान राज्य सम्पत्ति विभाग द्वारा किया जाता है। प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उप्र पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष आलोक कुमार ने मंत्री आवासों के बकाया भुगतान हेतु उत्तर प्रदेश के राज्य सम्पत्ति अधिकारी से वार्ता की है। जिसमें राज्य सम्पत्ति अधिकारी ने प्रमुख सचिव ऊर्जा को आश्वस्त किया है कि बकाये की एक किस्त 46 लाख रूपये वो तत्काल जमा करा रहे हैं। शेष बकाये की राशि में से 5 करोड़ रू0 इसी सप्ताह पुर्न विनियोग से तथा शेष बकाया अगले वित्तीय वर्ष में पूर्णतया जमा कराया जायेगा।

24
March

लखनऊ। नया षिक्षा सत्र अप्रैल माह से प्रारम्भ होने जा रहा है परन्तु प्रदेश सरकार एक वर्ष बीत जाने के बाद भी प्राथमिक विद्यालयों से लेकर इण्टर कालेजों तक षिक्षकों की नियुक्ति करने में पूर्णतः असफल रही है जिससे षिक्षा के प्रति सरकार की उदासीनता स्पष्ट है। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व षिक्षा मंत्री डाॅ0 मसूद अहमद ने कहा कि विगत वर्ष 19 मार्च को सरकार के शपथ ग्रहण के बाद से ही षिक्षा सत्र तीन महीने देर से शुरू हो सका और फिर भी पुस्तके आदि नहीं उपलब्ध हो सकी। जिसके फलस्वरूप उनकी षिक्षा व्यवस्था में व्यवधान हुआ और परीक्षाएं फरवरी के ही महीने में आयोजित कर दी गयी। यह कृत्य विद्यार्थियों के साथ धोखा है क्योंकि जब षिक्षक और पुस्तके दोनो ही उपलब्ध न हो तो अच्छी षिक्षा अथवा परीक्षा की तैयारी सोचना बेइमानी है। प्रदेश सरकार आज भी टी0ई0टी0 2011 उत्तीर्ण बी0एड0 अभ्यर्थियों को नौकरी की मांग करने पर पुलिस से लाठीचार्ज कराकर भगा देती है जिससे बेरोजगारों में भी असंतोष और घोर निराषा व्याप्त है। साथ ही बच्चों के अभिभावक षिक्षा के प्रति सरकार की उपेक्षा से चिंतित है। ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार प्राइवेट स्कूल कालेजों के प्रति अधिक मेहरबान है जहां पर अभिभावक अपना सबकुछ लुटाकर अपने बच्चों की षिक्षा दिलाने में ही भलाई समझता है। रालोद प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेष सरकार के मुखिया को षिक्षा व्यवस्था को चुस्त दुरूस्त करने हेतु कोई पारदर्षी प्रणाली लागू करनी चाहिए जिससे प्रदेष के नौनिहालों को सही दिषा मिल सके और षिक्षा प्राप्त नौजवानों को रोजगार के अवसर मिल सके। किसी भी प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए षिक्षा एवं स्वास्थ बेहतर होनाा चाहिए क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क सम्भावित है और प्रदेश सरकार दोनो ही मामलों में असफल है। 

24
March

नई दिल्ली। यूपी में सबसे ज्यादा 10 सीटें थीं। भाजपा ने गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव में मिली हार का बदला ले लिया। अपने सभी 9 उम्मीदवारों को जिताने में कामयाब रही। राज्य में 25 साल बना सपा-बसपा गठबंधन बसपा प्रत्याशी आंबेडकर को जिता नहीं पाया। क्रॉस वोटिंग के चलते शुरू में चुनाव आयोग ने मतगणना पर रोक लगा दी। 17 राज्यों में राज्यसभा की 59 सीटों पर चुनाव प्रक्रिया शुक्रवार को पूरी हुई। भाजपा ने इनमें से 28 सीटें जीत लीं हैं। 10 राज्यों के 33 उम्मीदवार निर्विरोध चुने जा चुके थे। जबकि 7 राज्यों की 26 सीटों पर शुक्रवार को वोटिंग हुई। बाद में द्वितीय वरीयता के वोटों से 10वीं सीट पर जीत का फैसला हुआ। इसमें भाजपा के 9वें उम्मीदवार अनिल अग्रवाल विजयी रहे। उन्होंने बसपा के भीमराव अंबेडकर को हराया।विश्व क्षयरोग दिवस : टीबी के खिलाफ जंग में चलो यूपी को विजेता बनायें…इन राज्यों में वोटिंग हुई- उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, कर्नाटक और केरल शामिल हैं।  भाजपा के 9 उम्मीदवार- अरुण जेटली, जेवीएल नरसिम्हा राव, अनिल जैन, डॉ. अशोक बाजपेयी, विजयपाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, हरनाथ सिंह यादव, अनिल अग्रवाल और कांता कर्दम जीते।

सपा से जया बच्चन जीतीं।

छत्तीसगढ़:कुल खाली सीटें: 01; बीजेपी-01, भाजपा की सरोज पांडेय जीतीं। उन्होंने कांग्रेस के लेखराम साहू को हराया। भाजपा को 51 और कांग्रेस को 36 वोट मिले। झारखंड: कुल खाली सीटें: 02; बीजेपी-01, कांग्रेस-01, एक सीट पर भाजपा के समीर उरांव और दूसरी पर कांग्रेस के धीरज साहू जीते। कर्नाटक: कुल खाली सीटें: 04; बीजेपी-01, कांग्रेस-03, कांग्रेस को तीन और भाजपा को एक सीट मिली। कांग्रेस के एल हनुमंथैया, डॉ. सैयद नसीर हुसैन और जीसी चंद्रशेखर और भाजपा के राजीव चंद्रशेखर जीते। पश्चिम बंगाल: कुल खाली सीटें: 05 ; टीएमसी-04, कांग्रेस-01, कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी जीते। यहां कांग्रेस को टीएमसी का सपोर्ट था। उनके अलावा राज्य में टीएमसी के चार कैंडिडेट- अबीर रंजन बिस्वास, नदीमुल्ला हक, सुभाष चक्रवर्ती और शांतनु सेन जीते। तेलंगाना: कुल खाली सीटें: 03; टीआरएस- 03, सभी तीन सीटें सत्ताधारी तेलंगाना राष्ट्र समिति को मिलीं। बी. प्रकाश, जे. संतोष और एबी लिंगैया यादव जीते। केरल में एक सीट पर उपचुनाव: एलडीएफ: 01, जनता दल यूनाइटेड (शरद यादव गुट) के एमपी वीरेंद्र कुमार जीते। यह सीट वीरेंद्र कुमार के इस्तीफा देने के बाद ही खाली हुई थी। तब वे जेडीयू से सांसद थे और उस वक्त नीतीश कुमार और शरद यादव एक साथ थे। यानी उन्हें बाकी बचे दो साल के लिए चुना गया है। इस चुनाव के बाद भाजपा राज्यसभा में सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। अपने 38 साल के इतिहास में वह पहली बार 70 से ज्यादा सीटें हासिल कर पाई। बता दें कि भाजपा का गठन 1980 में हुआ था। भाजपा के राज्यसभा में फिलहाल 58 सांसद थे। अप्रैल में 14 सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा था। इस तरह पार्टी के पास सिर्फ 44 सांसद बचते। 

24
March

लखनऊ। पूरे देश में विश्व क्षयरोग दिवस 24 मार्च को मनाया जाता है। इस घातक बीमारी से लड़ने के प्रति जागरूक करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर स्थित इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। अगर आप टीबी की बीमारी से परेशान हैं और एलोपैथिक दवा खाते हुए तंग आ चुके हैं तो अब चिंता करने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। यूपी Vs टीबी पर आयोजित इस गोष्ठी में ‘टीबी हारेगा-यूपी जीतेगा’ के उद्देश्य पर पहल के साथ जागरूकता फैलाई गई। साथ ही ‘टीबी के खिलाफ जंग में चलो यूपी को विजेता बनायें’ का स्लोगन भी दिया दिया।  कार्यक्रम में कहा गया कि भारत सरकार की मंशा है कि वर्ष 2025 तक देश टीबी मुक्त हो जाए। इसके लिए देशभर में हर जगह टीबी रोगियों को चयनित करने के लिए डोर-टू-डोर अभियान चलाए गए। भारत में सर्वाधिक मौतें टीबी की वजह से ही होती हैं। बिजनौर जनपद से 130 मरीजों का टीबी पॉजिटिव होना पाया गया था। भारत सरकार के इस आंदोलन को सफल बनाने के लिये आयुर्वेद चिकित्सालय भी आगे आ गए हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सकों का दावा है कि यदि मरीज एक लहसुन की गुली और उतनी ही मात्रा में गुड़ को पीसकर एक गोली बनाकर दिन में तीन बार (एक साल तक) सेवन करेंगे तो टीबी को पूरी तरह से बाय-बाय कर सकते हैं। इसके अलावा आधा चम्मच शीतोप्लादि चूर्ण और शहद की बराबर मात्रा में देसी गाय के घी की चार बूंदे मिलाकर चटनी बना लें और दिन में तीन बार खाएंगे तो टीबी को पूरी तरह से ठीक करने की इसमें सबसे बड़ी ताकत है। बिजनौर जिला के मंडावर क्षेत्र के पांच मरीजों को इस दवा को अपनाने से अब तक निजात मिल चुकी है। विश्व क्षयरोग दिवस के अवसर पर आयोजित गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में स्वास्थ एवं परिवार कल्याण मंत्री भारत सरकार जेपी नडडा मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में स्वास्थ एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री यूपी सिद्धार्थ नाथ सिंह, परिवार कल्याण, मात्र एवं शिशु कल्याण महिला कल्याण एवं पर्यटन मंत्री यूपी डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के अलावा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ग्राम विकास एवं समग्र ग्राम विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. महेंद्र सिंह और परिवार कल्याण, मात्र एवं शिशु कल्याण महिला कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह के अलावा तमाम नेता और अधिकारी सहित विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि सम्मलित रहे।

Page 11 of 18