24
March

नई दिल्ली। यूपी में सबसे ज्यादा 10 सीटें थीं। भाजपा ने गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव में मिली हार का बदला ले लिया। अपने सभी 9 उम्मीदवारों को जिताने में कामयाब रही। राज्य में 25 साल बना सपा-बसपा गठबंधन बसपा प्रत्याशी आंबेडकर को जिता नहीं पाया। क्रॉस वोटिंग के चलते शुरू में चुनाव आयोग ने मतगणना पर रोक लगा दी। 17 राज्यों में राज्यसभा की 59 सीटों पर चुनाव प्रक्रिया शुक्रवार को पूरी हुई। भाजपा ने इनमें से 28 सीटें जीत लीं हैं। 10 राज्यों के 33 उम्मीदवार निर्विरोध चुने जा चुके थे। जबकि 7 राज्यों की 26 सीटों पर शुक्रवार को वोटिंग हुई। बाद में द्वितीय वरीयता के वोटों से 10वीं सीट पर जीत का फैसला हुआ। इसमें भाजपा के 9वें उम्मीदवार अनिल अग्रवाल विजयी रहे। उन्होंने बसपा के भीमराव अंबेडकर को हराया।विश्व क्षयरोग दिवस : टीबी के खिलाफ जंग में चलो यूपी को विजेता बनायें…इन राज्यों में वोटिंग हुई- उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, कर्नाटक और केरल शामिल हैं।  भाजपा के 9 उम्मीदवार- अरुण जेटली, जेवीएल नरसिम्हा राव, अनिल जैन, डॉ. अशोक बाजपेयी, विजयपाल सिंह तोमर, सकलदीप राजभर, हरनाथ सिंह यादव, अनिल अग्रवाल और कांता कर्दम जीते।

सपा से जया बच्चन जीतीं।

छत्तीसगढ़:कुल खाली सीटें: 01; बीजेपी-01, भाजपा की सरोज पांडेय जीतीं। उन्होंने कांग्रेस के लेखराम साहू को हराया। भाजपा को 51 और कांग्रेस को 36 वोट मिले। झारखंड: कुल खाली सीटें: 02; बीजेपी-01, कांग्रेस-01, एक सीट पर भाजपा के समीर उरांव और दूसरी पर कांग्रेस के धीरज साहू जीते। कर्नाटक: कुल खाली सीटें: 04; बीजेपी-01, कांग्रेस-03, कांग्रेस को तीन और भाजपा को एक सीट मिली। कांग्रेस के एल हनुमंथैया, डॉ. सैयद नसीर हुसैन और जीसी चंद्रशेखर और भाजपा के राजीव चंद्रशेखर जीते। पश्चिम बंगाल: कुल खाली सीटें: 05 ; टीएमसी-04, कांग्रेस-01, कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी जीते। यहां कांग्रेस को टीएमसी का सपोर्ट था। उनके अलावा राज्य में टीएमसी के चार कैंडिडेट- अबीर रंजन बिस्वास, नदीमुल्ला हक, सुभाष चक्रवर्ती और शांतनु सेन जीते। तेलंगाना: कुल खाली सीटें: 03; टीआरएस- 03, सभी तीन सीटें सत्ताधारी तेलंगाना राष्ट्र समिति को मिलीं। बी. प्रकाश, जे. संतोष और एबी लिंगैया यादव जीते। केरल में एक सीट पर उपचुनाव: एलडीएफ: 01, जनता दल यूनाइटेड (शरद यादव गुट) के एमपी वीरेंद्र कुमार जीते। यह सीट वीरेंद्र कुमार के इस्तीफा देने के बाद ही खाली हुई थी। तब वे जेडीयू से सांसद थे और उस वक्त नीतीश कुमार और शरद यादव एक साथ थे। यानी उन्हें बाकी बचे दो साल के लिए चुना गया है। इस चुनाव के बाद भाजपा राज्यसभा में सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। अपने 38 साल के इतिहास में वह पहली बार 70 से ज्यादा सीटें हासिल कर पाई। बता दें कि भाजपा का गठन 1980 में हुआ था। भाजपा के राज्यसभा में फिलहाल 58 सांसद थे। अप्रैल में 14 सांसदों का कार्यकाल खत्म हो रहा था। इस तरह पार्टी के पास सिर्फ 44 सांसद बचते। 

24
March

लखनऊ। पूरे देश में विश्व क्षयरोग दिवस 24 मार्च को मनाया जाता है। इस घातक बीमारी से लड़ने के प्रति जागरूक करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर स्थित इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। अगर आप टीबी की बीमारी से परेशान हैं और एलोपैथिक दवा खाते हुए तंग आ चुके हैं तो अब चिंता करने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। यूपी Vs टीबी पर आयोजित इस गोष्ठी में ‘टीबी हारेगा-यूपी जीतेगा’ के उद्देश्य पर पहल के साथ जागरूकता फैलाई गई। साथ ही ‘टीबी के खिलाफ जंग में चलो यूपी को विजेता बनायें’ का स्लोगन भी दिया दिया।  कार्यक्रम में कहा गया कि भारत सरकार की मंशा है कि वर्ष 2025 तक देश टीबी मुक्त हो जाए। इसके लिए देशभर में हर जगह टीबी रोगियों को चयनित करने के लिए डोर-टू-डोर अभियान चलाए गए। भारत में सर्वाधिक मौतें टीबी की वजह से ही होती हैं। बिजनौर जनपद से 130 मरीजों का टीबी पॉजिटिव होना पाया गया था। भारत सरकार के इस आंदोलन को सफल बनाने के लिये आयुर्वेद चिकित्सालय भी आगे आ गए हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सकों का दावा है कि यदि मरीज एक लहसुन की गुली और उतनी ही मात्रा में गुड़ को पीसकर एक गोली बनाकर दिन में तीन बार (एक साल तक) सेवन करेंगे तो टीबी को पूरी तरह से बाय-बाय कर सकते हैं। इसके अलावा आधा चम्मच शीतोप्लादि चूर्ण और शहद की बराबर मात्रा में देसी गाय के घी की चार बूंदे मिलाकर चटनी बना लें और दिन में तीन बार खाएंगे तो टीबी को पूरी तरह से ठीक करने की इसमें सबसे बड़ी ताकत है। बिजनौर जिला के मंडावर क्षेत्र के पांच मरीजों को इस दवा को अपनाने से अब तक निजात मिल चुकी है। विश्व क्षयरोग दिवस के अवसर पर आयोजित गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में स्वास्थ एवं परिवार कल्याण मंत्री भारत सरकार जेपी नडडा मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में स्वास्थ एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री यूपी सिद्धार्थ नाथ सिंह, परिवार कल्याण, मात्र एवं शिशु कल्याण महिला कल्याण एवं पर्यटन मंत्री यूपी डॉ. रीता बहुगुणा जोशी के अलावा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ग्राम विकास एवं समग्र ग्राम विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. महेंद्र सिंह और परिवार कल्याण, मात्र एवं शिशु कल्याण महिला कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह के अलावा तमाम नेता और अधिकारी सहित विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि सम्मलित रहे।

24
March

बरेली। उत्तर प्रदेश पुलिस में भ्रष्टाचार के किस्से तो आप ने खूब सुने होंगे। लेकिन ट्रैफिक विभाग में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है। यह हम नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो खुद इसका गवाह है। वायरल हो रहे इस वीडियो ने पुलिस विभाग में फैले भ्रष्टाचार की पोल खोल कर रख दी है।  ताजा मामला बरेली जिला का है। वायरल वीडियो के अनुसार, यहां ट्रैफिक पुलिस लाइन में एक होमगार्ड की पत्नी ने जमकर हंगामा काटा। पीड़िता का आरोप है कि उसके पति की ड्यूटी लगवाने के लिए एचसीपी ने ड्यूटी लगाने के बदले पत्नी की मांग की। पीड़िता का आरोप है कि एचसीपी रोज उसके पति से कहता था कि ड्यूटी तब लगाएंगे पहले अपनी बीवी को लेकर आओ और दू@%# पिलाओ। मांग पूरी ना होने पर पीड़िता के पति की ड्यूटी भी नहीं लगाई जा रही है। पीड़ित नकटिया गांव का रहने वाला है। ट्रैफिक पुलिस लाइन में घंटो चले हंगामे और गाली गलौज की सूचना पर वहां पुलिसकर्मियों के साथ लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई। इसकी सूचना जब एसपी ट्रैफिक को लगी तो उन्होंने वीडियो के आधार पर सीओ को जांच सौंपी है। ट्रैफिक पुलिस में फैले भ्रष्टाचार का यह पहला मामला नहीं है। राजधानी लखनऊ में भी ट्रैफिक पुलिस लाइन में होमगार्डों की ड्यूटी लगवाने के लिए जमकर अवैध वसूली होती है। यहां हर चौराहे के अलग रेट फिक्स हैं। होमगार्ड रोजाना ड्यूटी के लिए पैसे देते हैं इसके बाद चौराहों और तिराहों से लेकर हाइवे पर जमकर अवैध वसूली करते हैं। सूत्रों के मुताबिक एक महीने की ड्यूटी के लिए होमगार्ड को 200 रूपये से लेकर 1500 रूपये तक फिक्स हैं। वहीं चौराहे पर रोजाना 50 से 100 रुपये तक फिक्स हैं। अगर ये पैसे नहीं दिए तो आप ड्यूटी से हाथ धोकर बैठ जायेंगे।  रिश्वत देने के बाद ही होमगार्डों को ड्यूटी दी जाती है। इसके बाद उन्हें दिनभर मेहनत करके 375 रुपये दैनिक वेतन के रूप में मिलता है। अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जिस होमगार्ड को ड्यूटी नहीं मिली और वह कई महीने से खाली बैठा है वह ये रकम कहां से जुटाएगा। बता दें कि लखनऊ ट्रैफिक लाइन का एक वीडियो पहले वायरल हो चुका है इसमें लाइन लगाकर होमगार्डों से ड्यूटी लगाने के लिए पैसे लिए जा रहे थे।

23
March

 

 

 

नई दिल्ली। आधार मामले में बुधवार को सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने डाटा सिक्युरिटी को लेकर तमाम आशंकाओं को खारिज किया। उन्होंने कहा कि यह भ्रष्टाचार खत्म करने का एक गंभीर प्रयास है। सुप्रीम कोर्ट में आधार योजना पर गुरुवार को भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) के सीईओ अजय भूषण पांडेय प्रेजेंटेशन देंगे। केंद्र सरकार की मांग पर सीजेआई दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली 5 जजों की बेंच से उन्हें आधार डाटा की सिक्युरिटी पर पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के लिए इजाजत मिली है। सरकार ने कोर्ट को बताया है कि आधार का डाटा सेंट्रल आईडेंटिटीज रिपाॅजिटरी में 10 मीटर ऊंची और 4 मीटर चौड़ी दीवार के पीछे सुरक्षित है। इससे पहले कोर्ट ने सरकार से पूछा था आप नागरिक की सिर्फ पहचान चाहते हैं फिर उसके निजी डाटा को आधार योजना के तहत केंद्रीकृत करके रखने की क्या जरूरत है?  आधार योजना की उपयोगिता को लेकर केंद्र सरकार ने संविधान पीठ के सामने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के बयान का जिक्र किया। अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल ने कहा एक पूर्व पीएम ने कहा था कि केंद्र सरकारी योजनाओं में एक रुपया जारी करता है तो लाभार्थी तक सिर्फ 15 पैसे पहुंचते हैं। 85 पैसे बीच में खा जाते हैं। उन्होंने कहा कि आधार से इस तरह की रिश्वत और कमीशनखोरी पर लगाम लग जाएगी।  सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा पेंशन भुगतान के लिए सरकारी रिटायर्ड कर्मचारियों अधिकारियों के आधार की क्या जरूरत है? क्योंकि सरकार के सामने उनकी पहचान पहले से ही होती है। कोर्ट ने यह सवाल विदेश में बस गए पेंशनधारी भारतीयों की याचिका पर किया। इसमें कहा गया है कि आधार सिर्फ भारतीय नागरिक का बनता है ऐसे में उनके पेंशन आधार को जरूरी करने के चलते रुक गई है। इस पर केंद्र सरकार ने कहा कि कानून की खामियों को दूर किया जा रहा है

 

 

 

Page 9 of 16