11
April

पार्कों के सौंदर्यीकरण तो कहीं स्वच्छता अभियान को लेकर फंस गया नगर निगम

मैनफोर्स

लखनऊ। प्रदेश सरकार स्वच्छता अभियान व विकास को लेकर बड़े.बड़े दावे कर रही है। वहीं राजधानी का एक क्षेत्र ऐसा भी है, जहां पिछले कई सालों से लोगों को अनेक समस्याओं से जूझना करना पड़ रहा है। मामला राजधानी लखनऊ के जानकीपुरम विस्तार का है। जहां के चंद्रिका टावर के पास पार्क को लखनऊ प्रशासन द्वारा लगभग 12 साल पहले बनाया गया था। इसके साथ ही क्षेत्र की पानी की समस्या को देखते हुए एक पानी की टंकी का निर्माण भी इस पार्क में कराया गया था। मगर आज पार्क की हालत इतनी बदतर हो चुकी है कि आसपास रहने वाले लोगों के लिए यह पार्क एक बड़ी समस्या बन चुका है।

10
April

समस्या के समाधान के लिए स्टेशनरी विक्रेता एवं निर्माता एसोसिएशन ने लगाई गृहमंत्री से गुहार

मैनफोर्स

लखनऊ। प्राइवेट स्कूलों द्वारा बिना किसी नियंत्रण के अभिभावकों से अधाधुंध फीस वसूली की जा रही है। स्कूल प्रबंधनों द्वारा सिंडीकेट बनाकर किताब, कापी, ड्रेस व स्टेशनरी को मनमाने दामों पर अभिभावकों को खरीदने के लिए विवश किया जा रहा है। यह बात स्टेशनरी विक्रेता एवं निर्माता एसोसिएशन, लखनऊ के अध्यक्ष जितेन्द्र सिंह चौहान ने कही। उन्होंने कहाकि स्कूल स्टेशनरी से सम्बंधित उत्पादों पर कर की न्यूनतम व एक समान दरों को लागू किया जाना चाहिए। उन्होंने कहाकि उत्तर प्रदेश में व्यवसाय कर रहे स्टेशनरी, कापी व किताब व्यापारियों का उत्तर प्रदेश एवं देश भर के छात्रों को शिक्षित करने में अहम योगदान है। चूंकि स्टेशनरी एवं कापी, किताब विक्रेता स्वयं भी इन वस्तुओं के उपभोक्ता है। इसलिए इन वस्तुओं में होने वाली लूट से भलीभांति परिचित है।

09
April

नियम विरूद्ध तरीके से वीआरएस लेने वाले चिकित्सक डा. एके कुलश्रेष्ठ को किया गया पुनर्योजित

शासनादेश को धत्ता बताकर शासनादेश का अनुपालन करने वाले कर रहे उल्लंघन

मैनफोर्स

लखनऊ। सूबे के जनपद प्रतापगढ़ में ऐसे भी चिकित्सकों को पुनर्योजित जा रहा है। जो पूर्व में स्वत: ही वीआरएस अर्थात स्वैच्छिक रूप से सेवानिवृत्ति ले चुके हैं। जबकि स्वास्थ्य महानिदेशालय उ.प्र.लखनऊ से इस संबंध में जन सूचना अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी मांगी गई तो जवाब में बताया कि गया कि वीआरएस लेने लेने वाले चिकित्सकों को कतई पुनर्योजित नहीं किया जा सकता है।

09
April

मैनफोर्स

लखनऊ। कला, संस्कृति के क्षेत्र में किसी भी राज्य में दिए जाने वाला संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार प्राप्त कलाकारों के लिये गौरव की बात होती है। ज़ाहिर है सरकार द्वारा कला के विविध  क्षेत्रों में दिए जाने वाला ये पुरस्कार सर्वोच्च है। नाट्य-संगीत-नृत्य से जुड़े कलाकार इस पुरस्कार को पाने में अपने को गौरव महसूस करते हैं। सम्मान कोई भी हो, यह जिस कलाकार को प्राप्त होता है। उसकी मेहनत, ईमानदारी और अपने क्षेत्र में किये गए कार्य का प्रतिफ ल होता है। कलाकारों को सम्मानित करने का मतलब ही यही है कि उसके कला क्षेत्रे किये गए कार्य का मूल्यांकन करना और कला के सरोकारों के प्रति उसकी जिजिविषा को सम्मानित करना। उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी इस कार्य को पूरा करती है। संगीत नाटक अकादमी की स्थापना भी कला के तमाम जन सरोकारों को लेकर की गई थी।

Page 4 of 18