07
June

आवाम की सेवा में तत्पर लखनऊ पुलिस हत्यारोपियों की बनी ढाल

Written by 
Published in home down right

हत्यारोपियों से साठगांठकर पीड़ित पर बना रही सुलह का दबाव

सीसीटीवी में हत्यारोपियों की स्पष्ट तश्वीर फिर भी पारा पुलिस की पहुंच से दूर हत्यारोपी

मैनफोर्स

लखनऊ। लखनऊ पुलिस की कार्यप्रणाली भी अजीबोगरीब है। एक तरफ वह कहती है कि लखनऊ पुलिस आपकी सेवा में तत्पर है। वही दूसरी ओर उसकी कार्यप्रणाली अपनी कहावत के बिल्कुल विपरीत है। आम आवाम पुलिस जब पुलिस से मदद मांगती है तो वह उसकी सुनती नहीं है। पुलिस का यह दोहरा चरित्र आम आदमी की परेशानी का समाधान कम, परेशानी का सबब ज्यादा बनती है। पुलिस अपराधियों पर नकेल लगाने में कम, आवाम से धन उगाही करने में ज्यादा दिलचस्पी लेती है। मामला चाहे सड़क का हो या फिर थाने का हो। मामला चोरी का हो या हत्या और बलात्कार हो। पुलिस प्रत्येक मामले का समाधान कम और अवैध धन उगाही ज्यादा करती हुई दिखाई देती है। इसका एक छोटा सा नमूना लखनऊ जनपद के थानाक्षेत्र पारा में देखने को मिल रहा है। आपको को बता दें कि दिनांक 30 अप्रैल 2019 को रामकली पत्नी स्व. कालिका निवासी ग्राम भपटामऊ पोस्ट राजाजीपुरम थाना पारा लखनऊ ने थाना प्रभारी पारा को यह लिखित सूचना दी कि उसके पुत्र श्याम की 30 अप्रैल की ही रात को गांव के ही विनीत पुत्र लालता, राहुल पुत्र रामचन्दर, परमेश्वर पुत्र अज्ञात ने हत्या कर दी। रामकली ने अपनी तहरीर में उल्लेखित किया था कि उपरोक्त तीनों आरोपी दिनांक 30 अप्रैल को रात के 10:30 बजे घर से बुलाकर ले गये थे। इन तीनों आरोपियों ने ही उसके बेटे श्याम को पुरानी रंजिश के कारण मारकर उसे परमेश्वर की छत से फेंक दिया था। रामकली ने उल्लेखित किया था कि उसे मोहल्ले वालों ने रात करीब 1 बजे सूचना दिया कि उसके बेटे की हत्या कर दी गई है। इतना ही नहीं रामकली ने उक्त तहरीर में यह भी उल्लेखित किया था कि उपरोक्त तीनों आरोपियों ने उसके पुत्र श्याम को दिसम्बर 2018 में जान से मारने का प्रयास किया था। रामकली द्वारा उपरोक्त आरोपियों पर लगाये गये गंभीर आरोपों में पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार भी किया था। मगर पुलिस द्वारा आरोपियों की यह गिरफ्तारी कार्यवाही करने के लिए नहीं थी बल्कि आरोपियों से धन उगाही कर मामले को रफा दफा करने के लिए थी। शायद यही वजह है कि पुलिस ने इन आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद भी धन उगाही करके छोड़ दिया।

जबकि रामकली के घर से कुछ ही दूरी पर स्थानीय निवासी जंगली उर्फ जय प्रकाश की किराने की दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे में 12 बजकर 44 मिनट पर घायल अवस्था में श्याम घर की तरफ आते हुए दिखाई दिया। जबकि इससे पूर्व 10:30 बजे के बाद विपिन पुत्र राकेश, राहुल पुत्र रामचन्दर, पूनम पुत्री मुन्ना के साथ उक्त कैमेरे में श्याम कई बार आता—जाता दिखाई दिया था। मृतक श्याम की मां रामकली ने बताया कि उसके पुत्र श्याम ने पूनम पुत्री मुन्ना निवासी डेढ़ेमऊ थाना मलिहाबाद से कोर्ट मैरेज अर्थात न्यायालय के समक्ष विवाह किया था। रामकली ने बताया कि इसकी उसे जानकारी उसे होली दिन हुई थी।

रामकली ने कहाकि जब उसे इस विवाह की जानकारी हुई तो उसने पूनम के भाई सूरज, राज और उसके माता पिता से बात की। जिन्होंने शादी होने की बात को नकारा दिया। पूनम के घर वालों ने बताया कि पूनम विपिन से शादी करना चाहती है। रामकली ने बताया कि इसके बाद उसने पूनम से बात किया तो पूनम ने कहाकि श्याम मेरी जरूरतों को पूरा नहीं कर पायेगा। इसलिए वह उससे शादी नहीं करना चाहती हैं। उसने कहाकि वह विपिन से शादी करेगी। रामकली ने बताया कि इसी रंजिश में पूनम का भाई सूरज और आदित्य पुत्र इश्वरदीन ने कतिकी के गंगा स्नान के दिन रात में चलती हुई मोटरसाइकिल से मेरे पुत्र श्याम को धक्का मार दिया। इस घटना में मेरा पुत्र श्याम घायल भी हो गया था। श्याम की चोट लगने से नाक फट गया था। घटना स्थल से गुजर रहे अंकित निवासी मायापुरम ने श्याम को अस्पताल में ले जाकर इलाज करवाया। श्याम की नाक में सात टांके लगे थे। रामकली ने बताया कि आदित्य पुत्र ईश्वरदीन उसी के गांव है। पूनम आदित्य की रिश्ते में साली लगती है। अक्सर पूनम आदित्य के घर पर आती जाती थी। रामकली ने बताया कि घटना के दिन के 15 दिन पूर्व से ही पूनम आदित्य के घर पर ही रूकी हुई थी।

रामकली ने बताया कि घटना के रात श्याम के साथ पूनम, विपिन, राहुल कई बार आते जाते दिखे। जो जंगली के सीसीटीवी कैमरे में रिकार्ड है। विपिन के साथ अन्य लोग भी आते दिखे है। रामकली ने कहाकि जब उसका पुत्र श्याम मृत अवस्था में मिला तो उसके पूरे शरीर पर चोट के निशान थे। घुटना छिला हुआ था। दोनों पैरों का तलवा पूरी तरह से काला हो गया था। दाहिने पैर की अंगुली के नाखुन गायब थे। नाक और कान से खून बह रहा था। रामकली ने बताया कि श्याम की हत्या पूनम और विपिन ने ही उपरोक्त लोगों के माध्यम से करायी है। क्योंकि पूनम और विपिन दोनों की शादी करना चाहते थे। इसलिए ने पूनम और विपिन ने मेरे बेटे को रास्ते से हटाने के लिए उपरोक्त लोगों के साथ मिलकर हत्या करा दी। रामकली ने कहाकि वह पढ़ी लिखी नहीं है। इसलिए पुलिस ने तहरीर में जो बाते लिखने के लिए कही थी। पुलिस ने वह नहीं लिखा। रामकली ने कहाकि पुलिस से जब वह पोस्टमार्टम की रिपोर्ट मांगती है तो पुलिस रिपोर्ट तक नहीं देती है।

रामकली ने कहाकि उपरोक्त लोगों के साथ—साथ पुुलिस भी इस मामले में सुलह करने का जबरन दबाव बना रही है। पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। मगर उसके बावजूद भी पुलिस उसकी एक नहीं सुन रही है। रामकली ने कहाकि उसका पूरा परिवार हर डर—डर कर जी रहा है। मगर पुलिस कार्यवाही करने की बजाय आरोपियों के साथ साठगांठ कर उसे ही सुलह करने के लिए भयभीत कर रही है। 

 

 

 

Read 199 times Last modified on Friday, 07 June 2019 07:23
Rate this item
(2 votes)
Super User

Aliquam erat volutpat. Proin euismod laoreet feugiat. In pharetra nulla ut ipsum sodales non tempus quam condimentum. Duis consequat sollicitudin sapien, sit amet ultricies est elementum ac. Aliquam erat volutpat. Phasellus in mollis augue.

Website: www.youjoomla.com

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.