13
February

महिला चेतना समिति ने वितरित किया सेनेटरी नैपकिन

Written by 
Published in home down right

युवा बालिकाओं को जागरूक करने के लिए चलाया अभियान, प्रतिभा इंटर कालेज में लगाया मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता शिविर

मैनफोर्स

बाराबंकी। हमारे समाज में आज भी मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता एक ऐसा गंभीर विषय है। जिस पर कोई खुलकर नहीं बोलना चाहता। इसमें सबसे ज्यादा कठिनाई युवा बालिकाओं को होती है। इन बालिकाओं की स्वयं की मां या परिवार की भी कोई महिला खुलकर इस मुद्दे पर बात करना नहीं चाहती है। लाज और शर्म की यही यथास्थिति मासिक धर्म के दौरान इन युवा बालिकाओं के स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डाल रही है। जिसकी वजह से उन्हें तमाम प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझना पड़ता है। यह विचार आज महिला चेतना समिति द्वारा जनपद बाराबंकी के प्रतिभा इंटर कालेज में लगाई गई मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता कैम्प में समिति की अध्यक्ष श्रीमती कुसुम विलास यादव ने व्यक्त किया। श्रीमती यादव जब बाराबंकी स्थिति प्रतिभा इंटर कालेज में अध्ययनरत युवा बालिकाओं से जब इस मुद्दे पर वार्ता की तो सभी युवा बालिकाओं के चेहरे पर लाज और शर्म का भाव स्पष्ट रूप से देखने को मिला। बहुत सी ऐसी भी बालिकाएं  थी। जिन्हें इस बारें संक्षिप्त जानकारी भी नहीं थी। इन बालिकाओं से इस गंभीर मुद्दे पर वार्ता करने के लिए समिति की अध्यक्ष श्रीमती कुसुम विलास यादव को मित्रवत शब्द तलाशने पड़े। श्रीमती कुसुम विलास यादव ने कहाकि दरअसरल हमारे समाज में मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता से संबंधी बहुत सी धारणाएं गलत चली आ रही हैं। जब तक इन मिथक धारणाओं को तोड़ा नहीं जायेगा तब तक इन युवा बालिकाओं को मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता के संदर्भ में शिक्षित नहीं किया जा सकता है। समिति की अध्यक्ष ने कहाकि भारतवर्ष में लगभग 20 करोड़ से अधिक बालिकाएं मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता से संबंधी जानकारियों से अनभिज्ञ हैं। लगभग 66 प्रतिशत भारतीय बालिकाएं मासिक धर्म के बारे में तब तक कुछ नहीं समझ पाती है। जब तक कि उनका मासिक धर्म शुरू नहीं हो जाता। बालिकाओं को इस प्रकार की समस्याओं से जागरूक करने के लिए और उनकी समस्याओं के समाधान के लिए महिला चेतना समिति द्वारा समय-समय पर मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता शिविर का अलग-अलग क्षेत्रों में आयोजन किया जा रहा है। साथ ही युवा बालिकाओं को इस शिविर में नि:शुल्क सेनेटरी नैपकिन वितरित किया जा रहा है। समिति की अध्यक्ष ने बताया कि आज प्रतिभा इंटर कालेज में संस्था द्वारा आयोजित शिविर में करीब 200 युवा बालिकाओं को नि:शुल्क सेनेटरी नैपकिन वितरित किया गया है। इसी क्रम में कार्यक्रम में उपस्थित लखनऊ के हेरिटेज हापिस्टल की डा. सरस्वती ने कालेज में अध्ययनरत युवा बालिकाओं को मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता से संबंधित विधिवत जानकारी दी। 

युवा बालिकाओं की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का प्रमुख कारण जागरूकता का अभाव : डा. : सरस्वती

महिला चेतना समिति द्वारा जनपद बाराबंकी स्थित प्रतिभा इंटर कालेज में लगाये गये मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता शिविर में हेरिटज हास्पिटल की डा. सरस्वती ने कहाकि भारत में आज भी महिलाएं मासिक धर्म से संबंधित मुद्दों पर खुलकर चर्चा करने में स्वयं को असहज महसूस करती है। आज भी भारतीय समाज की अधिकांश आबादी सांस्कृतिक मान्यताओं के बंधन और लोक लाज के भय और शर्म के कारण मासिक धर्म स्वच्छता के महत्व को दरकिनार कर देता है। जिसका मुख्य कारण जागरूकता का अभाव है। जागरूकता के अभाव में इन मुद्दों पर सुधार की पहल करना बेमानी है। इसलिए इस मुद्दे पर सुधार की पहल करने से पूर्व इस मुद्दे के बारे में बेहतर तरीके से जागरूक करना आवश्यक है। डा. सरस्वती ने कहाकि स्वच्छता स्वास्थ्य का सबसे बेहतर और महत्तपूर्ण कारण है। डा. सरस्वती ने कहाकि मासिक धर्म के बारे में बात करने में आज भी बालिकाएं तो बालिकाएं महिलाएं भी झिझकती हैं। इससे समस्याओं का समाधान नहीं होगा बल्कि मासिक धर्म के दौरान बालिकाओं और महिलाओं को क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। इस बारें में जागरूक होना चाहिए। जब तक बालिकाएं और महिलाएं इस बारें में जागरूक नहीं होगी तब तक वे खुद के स्वास्थ्य को खतरे में डालती रहेगी। डा. सरस्वती ने कहाकि मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बनाए रखे और स्वयं को संक्रमण से दूर रखे। ताकि अनचाही बीमारियों से बचा जा सके।

महिला चेतना समिति के प्रयास को कालेज प्रबंधन ने सराहा

महिला चेतना समिति द्वारा जनपद बाराबंकी के प्रतिभा इंटर कालेज में लगाये मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता शिविर कार्यक्रम की कालेज के प्रबंधक और प्रधानाचार्य सहित अन्य गणमान्य लोगों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की। कालेज प्रबंधन ने कहाकि बहुत सी बालिकाएं शर्म और लज्जा के चलते मासिक धर्म के दौरान होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं को परिजनों से बताने में हिचकती है। परिजन भी इस मुद्दे पर खुलकर अपनी बालिकाओं से वार्ता नहीं करते है। जिसकी वजह से बालिकाओं में मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता के संदर्भ में जागरूकता का अभाव होता है। जिससे बालिकाओं को स्वास्थ्य संबंधी तमाम प्रकार की गंभीर बीमारियों से जूझना पड़ता है। ऐसी परिस्थिति में महिला चेतना समिति द्वारा आयोजित इस प्रकार का कार्यक्रम महिलाओं की जागरूकता के संदर्भ में मील का पत्थर साबित होगा।

 

 

 

 

Read 599 times Last modified on Wednesday, 13 February 2019 17:05
Rate this item
(17 votes)
Super User

Aliquam erat volutpat. Proin euismod laoreet feugiat. In pharetra nulla ut ipsum sodales non tempus quam condimentum. Duis consequat sollicitudin sapien, sit amet ultricies est elementum ac. Aliquam erat volutpat. Phasellus in mollis augue.

Website: www.youjoomla.com

Leave a comment

Make sure you enter the (*) required information where indicated. HTML code is not allowed.